NEWS FLASH नांदेड़ पुलिस भर्ती में बड़ा घोटाला, होणे के बाद परीक्षा रद्द 15 गिरफ्तार, और भी जगह घोटाला आ सकता है सामने, ..., **

गुरुवार, ३ मे, २०१८

भूख हड़ताल को हल करने में राजस्व प्रशासन असफल

कामारी पैनगंगा नदी का अवैध रेत खनन मामला 
हिमायतनगर - ग्राम कामारी परिसर पैनगंगा नदी में नीलामी हुई घाट के आलावा अन्य घाट से रेत कि खुदाई शासन के नियम को कुडेदान दिखाकर की गई है। कारनवश पर्यावरण खतरे में आया है, इस मामले कि जांच कर पर्यावरण को बाधा पहुंचानेवाले माफिया कि और से चोरी हुई रेतमामले में जुर्माना वसूल किया जाये, साथ हि माफियाओ को अभय देणेवाले अधिकारियों कर्मचारियों को तात्काळ निलंबित किया जाना चाहिए इस मांग के लिये विगत चार दिन से हिमायतनगर तहसील के सामने भूखहडताल शुरू हो गया है।
दौरान अनशन के चौथे दिन यांनी ता.03 मई रोज अधिकारियों द्वारा भूख हड़ताल को समाप्त करने की कोशिश की गई लेकिन प्रशासन इसमें असफल हुवा है। जबतक हमारी मांगे पुरी नहीं होगी तबतक भूख हडताल जारी रहेगी ऐसीं जाणकारी प्रहार संघटन के जिलाध्यक्ष उमाकांत तिडके पटेल ने पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कहा।

तहसील के पैनगंगा नदी से अवैद्य रीती से जेसीबी द्वारा खुदाई कर रेती निकाली गई है, इस मामले कि ETAS मशीन द्वारा रेत निकाली गई जगह की जाँच करें, सरकार द्वारा निर्धारित किये गये नियमों को कुड्डाण दिखानेवाले रेत माफियाओ पर दंडात्मक कार्यवाही करते हुए राजस्व वसूल किया जाना चाहिए, और उन वाहनों के साथ ठेकेदारपर पुलिस कार्रवाई करनी चाहिए। इस जहां कि मांग राजस्व अधिकारी के साथ जिला कलेक्टर कि और तीन बार कि गई थी। किंतु तहसील स्तरीय अधिकारी और कारमियॉ द्वारा रेत चोरी कारणेवाले को अभय देनेवालो की जांचकर तुरंत निलंबित किया जाये, पैनगंगा के नीलामी कि हुई रेत जागाच के आलावा पैनगंगा नदी के तीतर घाट समेत अन्य स्थानों से खनन कर रेत स्टॉक किया गया, वह स्टोक जब्त करतेहुये, जेसीबी मशीन से हुई खुदाई और परिवहन वाहनों द्वारा पर्यावण को बाधा पहुंचाने को लेकरं नुकसान की भरपाई के साथ कार्रवाई होना चाहिए। इन मांगो के लिये प्रहार संघटन तहसील अध्यक्ष गजानन ठाकरे, बालू पाटिल शिरफ़ुले ने ३० अप्रैल से तहसील कार्यालय के सामने आमरण अनशन शुरु किया है। 

भूक हडताळलं शुरु राहते समय तहसील अधिकारी ०१ मई का झंडा लहरकर तीनही आंदोलन कर्ताओ के सामने से चले गये, लेकिन उन्होने आंदोलन कर्ताओ कि पुच्छताच भी नहीं कि, कारनवश रेत माफिया को स्थानिक अधिकारी का संपोर्ट होणे का संदेह अनशन कर्ताओ ने व्यक्त किया है। जिस तऱहा नांदेड़ जिले धर्माबाद, बिलोली, लोहा, कंधार, किनवट, और अन्य क्षेत्रों में राजस्व विभाग दवरा मामले दर्ज किये जा रहें, फिर हिमायतनगर में रेतमाफिया के मामले में प्रशासन सख्त कार्रवाई क्यू नहीं करता जीएस उन्हे अभय दिया जा रहा है कि राजनीतिक दबाव के कारण प्रशासन कारवाई नहीं करता. .? ऐसे संदेह ठाकरे, तिडके समेत उपस्थितो ने व्यक्त किया हैं। दौरान अणशणकर्ताओ कि प्रकृती बिघडणे से स्वस्त अधिकारी डीडी गायकवाड़ ने दोपहर ज्यांच कि इसम एक अनशन कर्ता 5 किलो और दुसरे का 7 किलो वजन घटा है।

इसकी जानकारी तहसीलदार की मिलतेही उन्होने नायब तहसीलदार शे. रफिक को अनशनकर्ता समीप भेजकार लिखित नोटिस द्वारा भूक हडताल खतम करणे कि अपील कि। और उन्होंने एक पत्र दिया... उसमे केवल ETAS मशीन द्वारा जांच की जाएगी ऐसा लिखा हुवा रहणे से प्रशासन द्वारा कार्यकर्ताओ को गुमराह करने की कोशिश कि जाणे का संदेश हुआ, जिससे अनशन कर्ताओ ने भूख  हड़ताल वापीस लेणे से मन करणे से श्याम ५.३० बाजे तक राजस्व विभाग को अनशन पीछे लेणे में असफलता मिली। इस समय प्रहार के जिलाध्यक्ष उमाकांत तिडके, शिवाजी पावडे युवाजिल्हा प्रमुख, शेतकरी संघटनेचे तालुकाध्यक्ष मारोतराव वानखेडे, त्रिंबक पाटील क्षीरसागर, प्रभू कल्याणकर, अतुल जाधव, बबलू पवार, राजू सावते, दीपक सावंत, विठ्ठल पतंगे, मारोती वारकड आदी प्रहार संघटना के  कार्यकर्ता समेत पर्यावरण प्रेमी नागरिक, पत्रकार उपस्थित थे।  
टिप्पणी पोस्ट करा