NEWS FLASH मराठा आरक्षण आंदोलन में नांदेड जिले का २४ लाख २५ हजार का हुवा नुकसान, आंदोलन में द्वेषभावना से कार्यरत आदोलंकारियो को ढुंढाने का काम सुरू - नांदेड पुलिस अधीक्षक संजय जाधव ..., **

शनिवार, २३ डिसेंबर, २०१७

राष्ट्रीय पेयजल घोटला जांच कि खातीर वालकेवाडी ग्रामवासि मिले

जलापूर्तिमंत्री लोणीकर और प्रदेशाध्यक्ष रावसाहेब दानवे से  

हिमायतनगर (संवादादाता) तहसील के आदिवासी क्षेत्रों इलाके के ग्राम वाळकेवाडी में पानी की कमी पुरी करणे के लिये भंडारण टैंक निर्माण कि खातीर मंजूर योजना से उपलब्ध निधी में घोटाला कर ठेकेदार फरार हुवा है/ जिससे गांव के नागरिकों को पानी के लिये दरदर भटकणे कि नौबत आई है/ इस मामले कि गहरी जांच और अधुरा निर्माण पुरा करके ग्रामवासियो कि प्यास बुझाने कि मांग भरा ज्ञापन नागपुर शीतकालीन अधिवेशन सत्र के दौरान
ग्रामवासियो ने जलापूर्तिमंत्री बबनराव लोणीकर व प्रदेशाध्यक्ष रावसाहेब दानवे को सौपा गया है।

संसदरत्न पुरस्कार प्राप्त हिंगोली के संसद राजीव सातव द्वारा दत्तक लिये संसद आदर्श ग्राम योजना में शामिल किये गये ग्राम वालकेवाडी में पिछले तीन वर्षों पाहिले पीने के पानी कि योजना को पूरा करने के लिए ०१ करोड़ ३० लाख कि राशी राष्ट्रीय जल आपूर्ति योजना के तहेत मंजूर हुई थी/ ऊस वकत जलपूर्ती समिती द्वारा पेयजल २ टंकी के साथ कुंवा निर्माण कार्य का ठेका गोरे नामक ठेकेदार को दिया गया था/ काम शुरू तो हुआ, किंतु ठेकेदार ने निर्माण कि जाणकारी देणेवाला बोर्ड ना लागते हुए ग्रामपंचायत को अंधेरी में रखते हुए काम शुरू किया/ इस बीच ग्रामसमीप बने सुना तालाब समीप कुओं की खुदाई हुई थी। केवल एक टंकी का निर्मण वह भी अधुरा रखकर ठेकेदार ने समिती के पदाधिकारी व इंजिनियर से मिलीभगत से भ्रष्टाचार करणे के कारण ४०% काम पूरा हो गया है। उन्होंने यह भी काम  निर्धारित समय में पूरा करणे कि बजाय मौजूदा काम को अधुरा छोड़ दिया और भाग गए है। इसलिए, पेयजल योजना टंकी निर्माण के साथ पाइपलाइन, स्टेंडपोस्ट नल का काम पिछले डेढ़ साल से बंद है। नतीजन, गांव में महिलाओं को प्यास बुझाने की खातीर दरदर भटकने की नौबत आई है/ आज की स्थिति में, गांव के कई बोअर बंद हो चुके हैं, और गांव के तीन भाग हैं। लेकिन दो क्षेत्रों के लोग को केवल एक ही बोअर से मिलने वाले जलपर निर्भर रहेना पडता हैं, जाब कि यः बोअर भी केवल 15 मिनट के बाद बंद हो जाता है। इसलिए उसी गांव के एक खेती में स्थित कुये से पाणी लाकर जनता को प्यास बुझानी पडती है। गांव के एक पुराने कुये से एक क्षेत्र को पानी की आपूर्ति कि जाती है, किंतु यहा के लोगो कि प्यास बुझाने के लिए मंजूर राष्ट्रीय पेयजल योजना का निर्माण कार्य पुरा करणा जरुरी है/ 

इस बात को लेकरं ग्राम के सरपंच समेट स्थानीय जागरूक युवको ने जिला कलेक्टर, जिला परिषद के  मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जलपूर्ती विभाग के वरिष्ठ अधिकारी को ज्ञापन देकर अधुरी योजना पुरी करणे के साथ हि इस योजना में हुई भ्रष्टाचार कि जांच की मांग की थी। हालांकि, इसी ग्राम निकटता से तालाब तहाने के बावजूद पेयजल कि खातीर महिला - पुरुषो को दरदर भटकणे कि नौबत आई है। इस बात से परेशान हुई गांव कि सैकड़ों महिलाएं अधुरा निर्माण पेयजल टंकी के पास एकट्ठा होकर ठिय्या आंदोलन किया था। इस दौरा हदगाव डिवीजन के श्री मेकेवाड नामक अधिकारी ने जांच का आश्वासन  देणेपर आंदोलन वापस लिया गया, बाद उन्होंने ग्राम वालकेवाडी में जाकर निरीक्षण किया, लेकिन वे सबसे बड़ी भ्रष्टाचार कि आशंका दूर करणे के इये जरुरी एमबी रिकॉर्ड प्राप्त नहीं हुई/ कारणवश अभितक इस मामले में कोई भी कारवाई नही हुई.? ऐसा सवाल आंदोलन करणे वाली महिलाओ द्वारा उठाया जा रहा है।  इसके बाद ग्रामवासियो ने नागपुर शीतकालीन सत्र में उपस्थित होकर जलआपूर्ति मंत्री बबनराव लोणीकर और प्रदेशाध्यक्ष रावसाहेब दानवे की भेट वालकेवाडी के नागरिकों ने लेकरं जलपुरी योजना में हुई धांदली को ध्यान में रखकर जांच करणे कि मांग कि है/ साथ हि भ्रष्टाचार में शामिल फरार ठेकेदार को हिरासत में लेकरं जलपूर्ती का निर्माण काम पुरा करणे के साथ ठेकेदार का नाम काली सूची में डालकर इसम शामिल सभी भ्रष्टाचारीयो के खिलाफ मामला दर्ज करणे कि कार्रवाई करके ग्रामीणों की प्यास बुझाने कि मांग कि है।

इस मामले में इंजीनियर मेकेवाड से जब संपर्क किया, उन्होने कहा कि, ग्राम पंचायत कार्यालय के बजट व काम की जांच के लिए गांव में जाना होगा, और एम बी प्राप्त करणी होगी, जब कि में वहा गया था, किंतु अंबतक मुझे एमबी रेकॉर्ड नहीं मिला/ काम पर नजर रखने के लिए ठेकेदार ने किया निर्माण को सुनिश्चित जांच करने के लिये संबंधित ठेकेदार कि गिरफ्तारी जरुरी है तभी आगे की जांच पड़ताल होणे के बाद हि इस मामले कि सही हकीकत सामने आ सकती है/  

टिप्पणी पोस्ट करा